logo
Blog single photo

ऑक्सीजन सप्लाई पर पीएम ने संभाला मोर्चा, नए तरीकों के उपयोग और काम में तेजी लाने पर जोर

नई दिल्ली: देश में कोरोना के बढ़ते मरीजों के साथ ही ऑक्सीजन की मांग भी बढ़ने लगी है, जिससे अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत होने लगी है। ऑक्सीजन की किल्लत के कारण कई मरीज दम तोड़ चुके हैं। ऐसे में अब ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर पीएम मोदी ने खुद मोर्चा संभाला है। पीएम मोदी ने ऑक्सीजन की उपलब्धता पर हाईलेवल बैठक की और अधिकारियों को निर्देश दिया कि ऑक्सीजन की सप्लाई में तेजी लाई जाए।

 बैठक में अधिकारियों ने पीएम मोदी को पिछले कुछ हफ्तों में ऑक्सीजन की आपूर्ति में सुधार के प्रयासों पर जानकारी दी। इस दौरान पीएम ने कई पहलुओं पर तेजी से काम करने की आवश्यकता के बारे में बात की। साथ ही ऑक्सीजन का उत्पादन बढ़ाना. सप्लाई की गति बढ़ाना और स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए ऑक्सीजन देने के लिए नए तरीकों का उपयोग करने पर जोर दिया।

बैठक में पीएम को बताया गया कि ऑक्सीजन की मांग और उसके अनुसार पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए राज्यों के साथ तालमेल बिठाया जा रहा है। पीएम को जानकारी दी गई कि कैसे राज्यों को ऑक्सीजन की आपूर्ति लगातार बढ़ रही है। लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन को भारत सरकार ने 21 अप्रैल से राज्यों को 6,822 मीट्रिक टन प्रतिदिन आवंटित किया है। पीएम को यह भी बताया गया है कि पिछले कुछ दिनों ऑक्सीजन की मांग बेहद तेजी से बढ़ी है।

इस बीच पीएम मोदी ने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिया कि विभिन्न राज्यों में ऑक्सीजन की आपूर्ति निर्बाध तरीके से हो। स्थानीय प्रशासन के साथ तालमेल बिठाकर सप्लाई जल्द से जल्द कराई जाए। इसके अलावा पीएम ने राज्यों को ऑक्सीजन का तेजी से परिवहन सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर जोर दिया। पीएम ने इस बात पर भी जोर दिया कि राज्यों को ऑक्सीजन की जमाखोरी को कड़ाई से रोकना चाहिए।












Top