logo
Blog single photo

श्रमिक मजदूरों की मदद के लिए आगे आई सरकार, जारी किए हेल्पलाइन नंबर

नई दिल्ली: देश में कोरोना का संकट लगातार गहराता जा रहा है। संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए राज्य सरकारें अपने-अपने स्तर पर पाबंदियां लगा रही है। कुछ राज्यों में संपूर्ण लॉकडाउन, तो कहीं नाईट कर्फ्यू लगाया गया है। बढ़ते खतरे के बीच एक बार फिर देशव्यापी लॉकडाउन का डर सताने लगा है, जिसके चलते प्रवासी मजदूरों का पलायन शुरू हो गया है।

इस बीच श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने एक बार फिर श्रमिक मजदूरों के लिए अपने कंट्रोल रूम एक्टिव कर दिए हैं। मंत्रालय द्वारा जारी बयान के मुताबिक़, कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामले और कई राज्यों में लगाई गई पाबंदियों के चलते श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने अप्रैल 2020 में गठित 20 कंट्रोल रूम फिर से चालू कर दिए गए हैं। साथ ही नंबर भी जारी कर दिए गए हैं। किसी भी श्रमिक एवं प्रवासी मजदूर को किसी तरह की आवश्यकता हो तो हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करें और सेवा का लाभ उठाएं।

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के मुताबिक़, सभी संबंधित अधिकारियों/पदाधिकारियों को सलाह दी गई है कि पीड़ित श्रमिकों की अधिकतम संभव सीमा तक सहायता करने और जरूरतमंदों को समय पर राहत प्रदान करने के लिए मानवीय दृष्टिकोण का पालन करें। बता दें कि श्रमिक मजदूर ई-मेल, मोबाइल एवं व्हाट्सएप के माध्यम से कंट्रोल रूम पर संपर्क कर सकते हैं।

ये कंट्रोल रूम अहमदाबाद, अजमेर, आसनसोल, बेंगलुरु, भुवनेश्वर, चंडीगढ़, चेन्नई, कोच्चि, देहरादून, दिल्ली, धनबाद, गुवाहाटी, हैदराबाद, जबलपुर, कानपुर,कोलकाता, मुंबई, नागपुर,पटना और रायपुर में एक्टिव हैं। इस महामारी की चुनौतियां बड़ी हैं, इससे श्रमिक विभिन्न तरीकों से प्रभावित भी होते हैं। मंत्रालय ने आश्वासन दिया गया कि समर्पित अधिकारियों की टीम के साथ वे श्रमिकों की समस्याओं को यथासंभव कम करने का प्रयास करेंगे।


Top