logo
Blog single photo

मकर संक्रांति: कड़ाके की ठंड के बीच घाटों पर उमड़ी भीड़, लगाई आस्था की डुबकी

नई दिल्ली: आज मकर संक्रांति के पर्व पर सुबह से ही श्रद्धालु नदियों में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं। गंगा घाट पर श्रद्धालुओं की भीड़ देखने को मिल रही है। मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन पवित्र नदी में स्नान करने से सारे पाप धुल जाते हैं और पुण्य की प्राप्ति होती है।

डिंडौरी जिले में मां नर्मदा नदी के घाटों में सुबह से ही बड़ी संख्या में लोगों की डुबकी लगाने का दौर जारी है। मकर संक्रांति के पावन पर्व पर नर्मदा नदी में डुबकी लगाकर पूजा अर्चना करने की विशेष परंपरा रही है। ग्रामीण अंचलों से भी लोग जिला मुख्यालय के डैमघाट सहित शनि घाट में पहुंचकर आस्था की डुबकी लगा रहे हैं।

कड़कड़ाती ठंड में भी लोगों का उत्साह कम नहीं हुआ। वाराणसी के घाट पर लोगों ने सूरज की पहली किरण के साथ गंगा में स्नान किया। यहां सुबह-सुबह घना कोहरा भी देखने को मिला। आज के दिन तिलकुट, चूड़ा, दही और गुड़ खाने की भी परंपरा है।

पश्चिम बंगाल में श्रद्धालुओं ने सुबह-सुबह हुगली नदी में आस्था की डुबकी लगाई। मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु से मकर राशि में प्रवेश करते हैं।माना जाता है कि मकर संक्रांति के दिन सूर्य की पहली किरण से नई ऊर्जा का संचार होता है इसलिए आज के दिन लोग सूर्य की पहली किरण के साथ गंगा में स्नान करते हैं।

मकर संक्राति के दिन सूर्य उपासना का भी खास महत्व है। आज के दिन सूर्य उत्तरायण होता है इसलिए इस समय किए गए जप और दान का फल अनंत गुना होता है।

मां नर्मदा नदी के उद्गम स्थल अमरकंटक से लेकर डिंडौरी जिले के करंजिया, बजाग, शहपुरा, मेहद्वानी जनपद क्षेत्र में आने वाले नर्मदा घाट में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखी जा रही है। तेज ठंड के चलते भी लोग मां नर्मदा नदी में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं।


Top