logo
Blog single photo

चुनाव आयोग का निर्देश, कोरोना वैक्सीन के सर्टिफिकेट से हटाएं पीएम मोदी की फोटो

नई दिल्ली: पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का बिगुल बजने के बाद चुनाव आयोग ने भी सख्ती शुरू कर दी है। चुनाव आयोग ने चुनावी राज्यों में कोरोना वैक्सीन के सर्टिफिकेट्स से पीएम मोदी की तस्वीर हटाने के लिए कहा है। आयोग ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को केरल, पुंडूचेरी, तमिलनाडु, असम और पश्चिम बंगाल में चुनाव के मदेनाजर कोरोना वैक्सीन के सर्टिफिकेट से पीएम मोदी की तस्वीर हटाने का निर्देश दिया है।

 निर्वाचन कार्य में लगे पदाधिकारियों को 72 घंटे में इस आदेश का पालन करना होगा। तृणमूल कांग्रेस ने आयोग से इस बाबत शिकायत दर्ज करवाई थी। भारतीय निर्वाचन आयोग ने कोलकाता स्थित पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट भी तलब की थी। मुख्य निर्वाचन अधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर आयोग ने ये आदेश जारी किया है।

गौरतलब है कि, कोरोना वैक्सीनेशन के बाद लाभार्थियों को कोरोना वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट दिया जाता है। इन सर्टिफिकेट्स पर पीएम मोदी की तस्वीर को लेकर चुनाव आयोग ने स्वास्थ्य मंत्रालय को आदेश दिए हैं कि वो विधानसभा चुनाव के मुहाने पर खड़े राज्यों से इन तस्वीरों को हटा दे।

वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट पर पीएम मोदी की तस्वीर को लेकर टीएमसी ने बीजेपी पर निशाना साधा था। टीएमसी सांसद सांतनु सेन ने कहा था कि हमें जन्म से ही वैक्सीन दी जा रही है क्या ऐसा पहले कभी हुआ है? ऐसा कभी नहीं हुआ है कि वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट पर पीएम की फोटो हो। टीएमसी के इस बयान पर बीजेपी नेता दिलीप घोष ने कहा कि यह आरोप बेबुनियाद हैं। चुनाव से पहले अगर सरकार कोई प्रोजेक्ट शुरू करती है तो वह उसी तौर तरीके से आगे बढ़ता है।

कोरोना वैक्सीन सर्टिफिकेट पर पीएम मोदी की तस्वीर को लेकर कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि सर्टिफिकेट पर किसी की  तस्वीर अगर होनी चाहिए तो वो देश के डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों की होनी चाहिए। जब वैक्सीनेशन की सुविधा नहीं थी इस दौरान भी इन लोगों ने महामारी के संकट के बीच लोगों की मदद के लिए खड़े थे।











Top