logo
Blog single photo

लॉकडाउन का डर! महाराष्ट्र-दिल्ली से बड़ी संख्या में घर लौट रहे प्रवासी मजदूर

नई दिल्ली: कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते देश में पाबंदियां फिर लौटने लगी है। देश कोरोना के उसी संकट में जा रहा है, जो पिछले साल था। कोरोना की बेकाबू रफ़्तार से शहरों में फिर लॉकडाउन का डर सताने लगा है। सरकार द्वारा लगातार बढ़ाई का रही सख्ती को देखते हुए लॉकडाउन की आहट होने लगी है। ऐसे में एक बार फिर प्रवासी मजदूरों के अपने घर लौटने की ख़बरें भी आने लगी है।

दिल्ली, पुणे सहित कई इलाकों से बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने-अपने घर लौटने लगे हैं। दिल्ली के आनंद विहार टर्मिनल पर बीते दिन बड़ी संख्या में प्रवासी मज़दूर घर जाते हुए दिखे। बिहार के कुछ मज़दूरों का कहना है कि पिछली बार लॉकडाउन में वो यहां फंसे रह गए थे, ऐसे में अब फिर से ऐसी स्थिति बनती है तो वो यहां फंसना नहीं चाहते हैं, इसलिए पहले ही अपने घर जा रहे हैं।

दिल्ली से दूर महाराष्ट्र के पुणे में भी कुछ ऐसा ही नज़ारा देखने को मिल रहा है, जहां प्रवासी मज़दूर बड़ी संख्या में अपने शहरों, गांवों की तरफ लौट रहे हैं। पुणे के रेलवे स्टेशन पर भारी भीड़ देखी गई। रेलवे की ओर से कहा गया है कि हम यहां नियमों का पालन कर रहे हैं। अधिक संख्या है लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग के पैमाने पर खरा उतरा जा रहा है।

गौरतलब है कि, कोरोना के बढ़ते ग्राफ के चलते राज्शानी दिल्ली में नाईट कर्फ्यू लगाया गया है। कई पाबंदियों के बाद भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे है। दिल्ली के अलावा महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, यूपी जैसे कई राज्यों ने अपने शहरों में नाइट कर्फ्यू तो लागू कर दिया है. महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश में तो वीकेंड लॉकडाउन भी चल रहा है।

याद हो कि बीते साल जब अचानक लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया था, तब लाखों मजदूर शहरों में फंस गए थे। जिसके बाद सड़कों पर प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़ अपने गांवों को लौटते हुए दिखाई दी थी।इस वक्त देश में कोरोना वायरस की रफ्तार बेकाबू हो चली है। गुरुवार को भी देश में करीब सवा लाख कोरोना के केस सामने आए।बढ़ते मामलों के कारण कई राज्यों ने अपने यहां प्रवेश पर पाबंदियां लगा दी हैं। एंट्री के लिए कोरोना टेस्ट अनिवार्य जैसी शर्तों को लगाया गया है।







Top