logo
Blog single photo

कोरोना की नई लहर से बदतर हो रहे हालात, बेड्स की कमी, पुणे में किराये पर ले रहे होटल

नई दिल्ली: भारत में कोरोना की नई लहर विकराल रूप लेती जा रही है। कई राज्यों में हालात बाद से बदतर होते जा रहे है। जो हालात एक साल पहले से, आज उससे कई ज्यादा गंभीर हालात है। पिछले 24 घंटे में ही देश में 1.15 लाख से अधिक नए केस दर्ज किए गए हैं, जो अबतक का सबसे बड़ा रिकॉर्ड है। इतना ही नहीं एक्टिव केस का आंकड़ा फिर से दस लाख की ओर बढ़ रहा है।

इस बीच दिल्ली और मुंबई जैसे बड़े शहरों में बेड्स को लेकर मारामारी देखने को मिल रही है। इनके अलावा पुणे, नागपुर जैसे शहरों में भी बेड्स की कमी दिखाई पड़ रही है।  मुम्बर में हर रोज औसतन 10 हजार मामले सामने आ रहे हैं, ऐसे में बेड्स को लेकर चिंता बढ़ने लगी है। बीएमसी की वेबसाइट पर जारी आंकड़े के मुताबिक, मुंबई में अभी बेड्स कमी नहीं है, लेकिन ये आंकड़ा तेज़ी से बढ़ रहा है।

बीएमसी के चार्ट के मुताबिक, मुंबई में अभी कोरोना रिजर्व के 5400 के करीब बेड्स खाली हैं। मुंबई में करीब 17 हज़ार बेड्स भर चुके हैं। यहां करीब 136 आईसीयू बेड्स खाली हैं. जबकि 51 वेंटिलेटर बेड्स ही खाली बचे हैं।

 मुंबई की तरह ही दिल्ली में भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे है। दिल्ली में भी नए मरीजों का आंकड़ा पांच हजार को छू रहा है। बढ़ते मरीजों के चलते राजधानी में भी बेड्स तेजी से भर रहे है। मौजूदा आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में कुल 8229 कोरोना के बेड्स हैं। इनमें 3770 भर चुके हैं, जबकि 4459 बेड्स खाली हैं। हालांकि, बीते कुछ दिनों में बेड्स भरने की रफ्तार बढ़ी है।

अगर दिल्ली में वेंटिलेटर की बात करें तो कुल 903 वेंटिलेटर में से 576 भरे हुए हैं, जबकि 327 वेंटिलेटर खाली हैं। दिल्ली-मुंबई के अलावा अगर पुणे की बात करें, तो यहां पर बेड्स की भारी कमी देखने को मिल रही है। पुणे में बीते 15 दिनों से प्रतिदिन चार हजार से अधिक केस आ रहे हैं, ऐसे में बेड्स तेज़ी से भर गए हैं।

पुणे के रूबी अस्पताल के मुताबिक, कोरोना मरीजों की संख्या तेज़ी से बढ़ी है, इसलिए बेड्स की कमी है। अस्पताल ने तीन होटल किराये पर लिए हैं, जहां कुल 180 बेड्स की सुविधा है। इस अस्पताल के अलावा पुणे के सरकारी अस्पताल और अन्य अस्पतालों में भी बेड्स तेज़ी से भर रहे हैं।








Top